Breaking News

सीवान में डीजे की धुन पर पीड़िया विसर्जन:सुबह-सुबह पहुंची सैकड़ों महिलाएं-कन्याएं, भोजपुरी गीतों पर लगाए देशी ठुमके

सीवान में शुक्रवार की अहले सुबह तालाबों और नदी-घाटों पर मेला जैसा नजारा देखने को मिला। गांव से सैकड़ों कन्या और महिलाओं ने भाई की सुख-समृद्धि के लिए पीडिया व्रत रखा उसके बाद उसे नदी तालाबों में विसर्जित किया। नदी तालाबों में सुबह से ही लाउडस्पीकर में महिलाओं के मधुर स्वर वातावरण में मन-मगन कर दिया। महिलाएं गीत गाती हुई शुक्रवार की सुबह नदी तालाबों और जलाशयों के किनारे पहुंची।

शुक्रवार की सुबह से ही नदियों, तालाबों और जलाशयों के किनारे कन्याओं एवं महिलाओं की भीड़ लगी रही। गौरतलब है कि इससे 1 दिन पूर्व इन्होंने उपवास भी किया था। जिले के महाराजगंज प्रखंड के बिशुनपुर महुआरी,दरौंदा प्रखंड के सिरसाव, मैरवा के इंग्लिशपुर, भगवानपुर हाट के मोरा-मैरी, बसंतपुर प्रखंड के सिपाह,आंदर बड़हरिया,गोरेयाकोठी इत्यादि जिले के सभी जगहों पर महिलाओं और कन्याओं ने भाई की लंबी उम्र के लिए पूजा अर्चना किया।

एक माह पहले लगाए थे पीड़िया

बता दे की कन्याओं ने भाई की लंबी उम्र के लिए पिछले 1 माह पहले से पीडिया लगा रखा था। जिसके बाद आज नदी तालाबों में विसर्जित करने के बाद उनका यह व्रत समाप्त हो गया। सुबह 5:00 बजे से ही नदी तालाबों के तट पर मेला जैसा नजारा रहा। पीड़िया विसर्जन के दौरान सुरक्षा के लिहाज से जिले के कई जगहों पर पुलिस भी तैनात रही।

कन्याएं और महिलाएं नाचती-गातीं पहुंची नदी-घाट

बता दें कि पीडिया विसर्जन करने के दौरान भोजपुरी गीत पर महिलाओं और कन्याओं की अलग उमंग देखने को मिली। नदी घाटों पर नाचती गाती महिलाएं डीजे की धुन पर खूब थिरकी। बताते चले कि पीड़िया व्रत की शुरुआत गोवर्धन पूजा के दिन से ही हो जाती है. गोवर्धन पूजा के गोबर से ही घर के दीवारों पर छोटे-छोटे पिंड के आकार में लोक गीतों के माध्यम से पीड़िया लगायी जाती है. इस दौरान लड़कियां घर की बुजुर्ग महिलाओं से अन्नकूट से कार्तिक चतुर्दशी तक छोटी कहानी व कार्तिक पूर्णिमा से अगहन अमावस्या तक सुबह स्नान कर कहानी सुनती है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.