Breaking News

996 करोड़ रुपए से बन रहे पुल का पाया बहा, भागलपुर में कोसी के तेज बहाव में बहा निर्माणाधीन पुल का पाया

भागलपुर के नवगछिया-बिहपुर कोसी नदी के तेज बहाव में निर्माणाधीन पुल का पाया बह गया। बहुप्रतीक्षित एनएच 106 मिसिंग लिंक (30 किलोमीटर ) बिहपुर से फूलोत तक कोसी नदी पर बन रहे पुल का 124 नंबर पाया (कुंआ) हरिओ के त्रीमुहान घाट के समीप कोसी नदी के तेज बहाव में बह गया। कोसी की मुख्य धारा में चार पाया हैं। उसमें से एक पाया बह रहा है। कोसी नदी पर पुल मुंबई की एफकॉन कंपनी बना रही हैं।

कोसी नदी पर बन रहे पुल के पाया नंबर 124 को बहने से रोकने का प्रयास करते इंजीनियर व कंपनी के लोग।

कोसी नदी पर बन रहे पुल के पाया नंबर 124 को बहने से रोकने का प्रयास करते इंजीनियर व कंपनी के लोग।

पाया का आधार 1400 टन वजनी था और उसका व्यास 8.50 मीटर था

कोसी नदी पर 6.94 किमी लंबा फोर लेन पुल बन रहा हैं। जिसका टोल प्लाजा सिक्स लेन का और सड़क टू लेन का हैं। एफकॉन के प्रोजेक्ट मेनेजर बी के झा, डीजीएम अरविंद कुमार, सीनियर मेनेजर तकनीक शैलेश तिवारी एवं एजीएम रणजीत कुमार ने बताया की जो पाया (कुंआ) पानी में बह गया। वो 1400 टन वजनी था और उसका व्यास 8.50 मीटर था। इस पाया के बह जाने से 2 करोड़ 27 लाख रुपया का नुकसान कंपनी को हुआ।

तीन पाया का काम पूरा हो चुका है, एक के नीचे कंक्रीट आने से नहीं हुआ था पूरा

कोसी की मुख्य धारा में चार पाया 121,122,123 और 124 हैं। तीन पाया का काम पूरा हो चुका हैं। लेकिन 124 नंबर पाया का नीचे कंक्रीट आ जाने के कारण नहीं पूरा हो पाया। वही गोताखोर को बुला कर जब दिखाया तो 1 जून को पता चला की कुंआ के नीचे बंडल में बिजली का पोल था। कोसी के पानी का बहाव तेज होने के कारण कुंआ के नीचे से मिट्टी खिसक गई और ये कुंआ (पाया) बहाव में बह गया।

996 करोड़ की लागत से बन रहा है पुल और सड़क

पुल और सड़क कुल मिलाकर 996 करोड़ की लागत से हो रहा हैं। जिसमें 41पुलिया ,माइनरब्रिज का निर्माण हो रहा हैं। पुल निर्माण का कार्य 7 मार्च से शुरू हुआ था। 6 जून 2024 को खत्म होना हैं। ज्ञात हो की मिसिंग लिंक में टोटल 141कुंआ (पाया) हैं। जिसमें मधेपूरा जिले के फूलोत में 22 कुंआ और भागलपुर जिले में 22कुंआ (पाया) पर काम चल रहा हैं। 10 जून से ही कोसी के जलस्तर में वृद्धि शुरू हो गई है। 18 जून को करीब 2 मीटर जल स्तर बढ़गया। कोसी के पानी का बहाव 1.9 मीटर/सेकेंड का हैं। जिस कारण निर्माणाधीन पाया (कुंआ) बह गया।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.