AccidentBreaking NewsDELHI

#DELHI अ’ग्निकां’ड; आ’ग से नहीं ज’हरीले धुएं से गई ज्‍यादातर लोगों की जा’न, देखें…

दिल्‍ली वाजानेंलों की रविवार की सुबह रानी झांसी रोड के अनाज मंडी इ’लाके में ल’गी आ’ग के साथ हुई। जैसे-जैसे दिन च’ढ़ने लगा लोगों की ची’ख पु’कार के साथ म’रने वालों का आं’कड़ा भी बढ़ने लगा। अंधेरा होने तक इस हा’दसे में 43 लोगों की मौ’त हो चुकी थी। हाद’से पर राजनीति भी शुरू हो गई थी। अब सवाल उठ रहे हैं कि रिहा’यशी इ’लाके में कैसे यह फै”क्‍ट्री चल रही थी। इन्‍हें ला”इसेंस कि”सने दिया। फैक्‍ट्री में फा’यर सेफ्टी के उपाय क्‍यों नहीं थे, वगै’रह-वगै’रह। लेकिन, जहां से ये स’वाल उठ रहे हैं उन्‍हें यह भी याद रखना होगा कि इस इला’के में केवल यही एक फैक्‍ट्र्री नहीं चल रही है, बल्कि इस जैसी सैकड़ों फैक्ट्रियां यहां पर चल रही हैं।

यह फैक्ट्रियां भाजपा और कांग्रेस की सरकार में भी यहां चल रही थीं। यहां की बारीकियों को समझने और जानने वाले इससे ब’खूबी परिचित भी होंगे। इतने स’घन आबादी वाले इला’कों में बिजली के तारों का जा’ल वर्षों से ऐसा ही बिछा है। लेकिन इसका अर्थ ये कतई नहीं है कि इनको ‘सही नहीं किया जा सकता था। यहां पर और यहां की तरह दूसरे सघन इला’के में रहने वाले लोग यह ब’खूबी जानते हैं कि फा’यर ब्रि’ग्रेड के वहां पहुंचने में कितनी ज’द्दोजहद करनी होती है। अक्‍सर इन इला”कों में हा”दसे के समय फा’यर ब्रिग्रेड पहुंच ही नहीं पाती है। वजह यहां की तंग ग’लियां और उसमें भी लोगों द्वारा अवै’ध क’ब्‍जा करना सबसे बड़ी स”मस्‍या होती है। इस बार भी यही वजह थी। इस हा’दसे में जितने लोग मा’रे गए उसमें सबसे अधिक 28 लोग बिहार से हैं। ये लोग रोजी-रोटी के जु’गाड़ में यहां पर आए थे।हा’दसे के दौ’रान ही आ’ग में फं’से लोगों ने अपनों को फोन भी करना शुरू कर दिया था।

जिस फैक्‍ट्री में यह हा’दसा घ’टा उससे एक दिन पहले ही यहां पर एक और इ’मारत में आ’ग लगी थी। यहां का रास्‍ता बे’हद तं’ग था। जिस बिल्डिंग में यह हा’दसा हुआ वह पांच मं’जिला इमारत थी। यहां पर बच्‍चों के बै’ग बनाने का काम होता था। काम करने वाले ज्‍यादातर लोग इसी इ”मारत में ही रहते भी थे। जिस वक्‍त सुबह ये हा’दसा हुआ उस व”क्‍त ज्‍यादातर म’जदूर सोए हुए थे। अ’चानक आग ने वि’कराल रूप ले लिया। पड़ोस के एक 11 वर्षीय बच्‍चे ने जब कमरे में आ’ग लगी देखी तो उसने दूसरे लोगों को शो’र म’चाकर उठाया।

आ’नन-फा’नन में लोगों ने इमा’रत में फं’से लोगों की जान ब”चाने की कवा’यद भी शुरू की। इस क”वायद में कुछ को ब’चा लिया गया तो कुछ की जा’न नहीं ब’चाई जा सकी। फा’यर ब्रि’गेड कर्मियों ने भी अपनी जा’न पर खेलकर कई लोगों को बचाया। इनमें से एक राजेश शुक्‍ला भी थे। उन्‍होंने 11 लोगों की जान ब’चाई। इस दौ’रान वो खुद भी ज”ख्‍मी हुए। दिल्‍ली के मंत्री समेत अन्‍य लोगों ने भी उनकी ज'”मकर तारीफ की।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.