Breaking News

‘अग्निपथ’ पर गाने के जरिए पीएम मोदी से गुहार, 9 साल के रौशन ने गाया-मोदी चाचा…घट जाए दूल्हा के क्रेज जी

बिहार में अग्निपथ योजना को लेकर हो रहे बवाल के बीच छपरा के एक बच्चे का गाना तेजी से सोशल मीडिया पर शेयर हो रहा है। छपरा के रहने वाले रौनक ने योजना पर व्यंग करते हुए गाना गाया है। व्यंग करते हुए रौनक रतन गा रहे कि पूर्ण कालीन नौकरी के बदले 4 साल की नौकरी देने में युवकों को क्या-क्या परेशानी हो सकती है।

प्रधानमंत्री मोदी को संबोधित करते हुए गाए गाने को सोशल मीडिया पर काफी पसंद किया जा रहा है। रौनक के वीडियो को महज कुछ दिन में लाखों में व्यूज मिल गए हैं। देश में ज्वलंत मुद्दा अग्निपथ के बीच गाए गाने की लोग सोशल मीडिया पर जमकर सराहना कर रहे है। गाने को लोग भी अलग-अलग कैप्शन के साथ शेयर कर रहे।

वायरल गाना भोजपुरी भाषा में गया गया है। गाने के अनुसार रौनक रतन ने प्रधानमंत्री मोदी जी को चाचा शब्द से संबोधित करते हुए हास्य और व्यंग किया गई। गाने के बोल अनुसार नौकरी का अवधि घटाए जाने से सबसे ज्यादा पर प्रभाव नौकरी के नाम पर दूल्हा बनाने वाले लड़को को होगा। चार साल के अवधि में उन्हें कोई उनका अपना कोई इमेज नही बचा जाएगा। और उन्हें न अच्छी लड़की मिलेगी न दहेज के अच्छा रकम मिलेगा। पूर्णकालिक नौकरी के नाम पर लड़की और रक़म दोनो मिलते रहे है।नौकरी वाले लड़को का इमेज और धाक कुछ और होता था लेकिन अग्निपथ योजना के बाद सब पर प्रश्नचिन्ह लग जाएगा।

पांचवी कक्षा में पढ़ने वाला रौशन के पहले भी गाए कई गाने वायरल हो चुके हैं।

पांचवी कक्षा में पढ़ने वाला रौशन के पहले भी गाए कई गाने वायरल हो चुके हैं।

सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना रौशन रतन का उम्र 9 वर्ष है। पांचवी कक्षा में पढ़ने वाला रौशन के पहले भी गाए कई गाने वायरल हो चुके हैं। कोरोना के समय वायरल हुआ पहला गीत स्कूल खुलते ही चले आते हो कोरोना को इंटरनेट पर जमकर तारीफ मिली थी।

इसके बाद पढावल छोड़ी गुरुजी खोजी मधुशाला भी जमकर वायरल हुआ था। तीसरा गीत सोनुआ के पढ़ा दी को भी लोगों ने खूब पसंद किया था। चौथे गाने के रूप में अग्निवीर को लोग पसंद कर रहे है। रौनक रतन के पिता संगीत शिक्षक है। प्रत्येक ज्वलंत मुद्दा पर गीत वायरल होने के बाद रौनक को जिले का वायरल बॉय कहा जाने लगा है। वायरल गीत में रौनक के साथ उसके भाई द्वारा तबला बजाया जा रहा है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.