BIHARBreaking News

लालू की पार्टी में अब तक 5 पर भूमिहारों के नाम आगे, मुजफ्फरपुर में शंभु सिंह और दिनेश सिंह के बीच मुकाबला

‘माई’ यानी मुस्लिम-यादव समीकरण वाला राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अब ‘भूमाई’ यानी भूमिहार-मुस्लिम-यादव समीकरण की ओर बढ़ चला है। विधान परिषद के स्थानीय निकाय कोटे की कुल 24 सीटों में से राजद ने 16 से 18 सीटों पर चुनाव लड़ने का निर्णय कर लिया है। इससे कम सीट पर किसी भी हालत में नहीं लड़ने की पार्टी हाईकमान ने रणनीति भी बना ली है। उम्मीदवारों को लेकर अपने कोटे की आधी से अधिक सीटों पर उम्मीदवारों के नाम तय भी कर दिए हैं। चुनाव करीब आते ही उन्हें राजद का ‘ऑथोराइज़्ड’ कैंडिडेट घोषित किया जाएगा, पर अभी उन्हें चुनाव लड़ने की तैयारी करने को कह दिया दिया गया है।

विधान परिषद की राजद कोटे की सीटों में से अब तक 5 पर भूमिहारों के नाम आगे किया जा चुका है। चूंकि निर्वाचन विभाग ने चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है और इस चुनाव के वोटर भी (त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के बाद) तय हो गए हैं इसलिए राजद के दोनों आलाकमान लालू और तेजस्वी रोज वैसे लोगों से मिल रहे हैं।

मुजफ्फरपुर में दिलचस्प हो सकती है लड़ाई

राजनीतिक हलकों में जो राजद उम्मीदवारों के नाम सामने आए हैं उसमे सबसे नया नाम चर्चित शंभू-मंटू गिरोह के शंभु सिंह का है। वो दिल्ली में लालू और तेजस्वी से मिले हैं और मिलने का सबूत अपना फोटो भी सोशल मीडिया पर वायरल करवा दिया है। मुजफ्फरपुर स्थानीय प्राधिकार सीट से ये उम्मीदवार बनेंगे तो जदयू के कई बार से जीत रहे बड़े पैसे वाले दिनेश सिंह (राजपूत) को कड़ा मुकाबला देंगे। इसके पहले पश्चिमी चंपारण से इंजीनियर सौरभ कुमार, लखीसराय एवं शेखपुरा सीट से अजय कुमार, पूर्वी चंपारण से बबलू देव और नवादा सीट से भी चर्चित पूर्व कांग्रेसी ‘सिंह परिवार’ की एक महिला का नाम सबसे आगे है।

RJD ए टू जेड की ओर

RJD में तेजस्वी की पॉलिसी को प्रमुखता मिलने के बाद यह पहला मौका है जब इतने बड़े पैमाने पर भूमिहारों को टिकट देने की तैयारी है। राजद में ही यह चर्चा का विषय बना हुआ है कि सचमुच NDA खासकर भाजपा के कोर वोटर में सेंधमारी की तैयारी है या धनबल मुख्य कारण है। पार्टी के नीति नियंता इसे लालू के राजद को पीछे छोड़ तेजस्वी के राजद ‘ए टू जेड’ की ओर बढ़ रही पार्टी मान रहे हैं।

वैसे बबलू देव को छोड़ बाकी चारों में से किसी को भी राजद कार्यकर्ताओं ने पार्टी के कार्यक्रमों में शायद ही देखा है। सौरभ कुमार पटना के बड़े फर्नीचर व्यवसायी है। शंभु सिंह ठेकेदारी के पेश को मैनेज करने वाले चर्चित नाम है। अजय कुमार भी अपने इलाके में ताकत रखने वाले नेता हैं तो नवादा के सिंह परिवार की उस इलाके में 4 दशकों से बादशाहत है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.