BIHARBreaking NewsSTATE

बिहार में कोरोना को भगाने के लिए हवन, मुजफ्फरपुर में लोगों ने कहा- मेडिकल साइंस नए वैरिएंट से लड़ने में असमर्थ

बिहार में कोरोना की रफ्तार तेज हो रही है। तीसरी लहर में शुक्रवार को पहली बार 24 घंटे में पॉजिटिव केस का आंकड़ा 65 सौ को पार कर गया। वहीं, कोरोना के फैलते प्रभाव से बचने के लिए लोग अंधविश्वास पर उतर आए हैं। मुजफ्फरपुर में लोगों ने कोरोना से बचने के लिए हवन-पूजन किया।

मेडिकल साइंस को धत्ता बताते हुए सिकंदरपुर कुंडल में कई लोग जुटे। हवन करने के दौरान भारतीय गरीबराज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष दीपक कुमार उर्फ दीपक ने बताया, ‘जिस तरह से देश में कोरोना के हालात हैं यह साफ जाहिर करता है कि मेडिकल सिस्टम कोरोना के नए वैरिएंट को हराने में पूरी तरह असमर्थ है। उसी को देखते हुए पार्टी के प्रबंध समिति के लोगों ने यह निर्णय लिया कि भगवान के नाम पर एक हवन कराया जाए।’

उन्होंने बताया, ‘हवन का आध्यात्मिक ही नहीं, वैज्ञानिक महत्व भी है। हवन द्वारा जो शक्तिशाली तत्व वायुमंडल में फैलाए जाते हैं, उनसे हवा में घूमते हुए असंख्य रोग कीटाणु सहज ही नष्ट हो जाते हैं। साधारण रोगों एवं महामारी से बचने का यज्ञ एक सामूहिक उपाय है।’

मुजफ्फरपुर के सिकंदरपुर कुंडल में कोरोना से बचने के लिए हवन किया गया।

मुजफ्फरपुर के सिकंदरपुर कुंडल में कोरोना से बचने के लिए हवन किया गया।

उन्होंने कहा, ‘पिछले दो साल से देश कोरोना की चपेट में है, लेकिन साइंस बीमारी पर काबू नहीं पा सका है। हमें अब साइंस पर भरोसा नहीं है। ऐसे में हमें अपने पुराने पद्धति की ओर ही लौटना होगा। कोई भी दवा सीमित स्थान एवं सीमित व्यक्तियों को ही बीमारियों से बचा सकती है, लेकिन यज्ञ की वायु तो सर्वत्र पहुंचती है और प्राणियों की भी सुरक्षा करती है।’

बिहार में कल 8 महीने का टूटा रिकार्ड

राज्य में शुक्रवार को 6,541 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। इसके साथ ही राज्य में सक्रिय मरीजों की संख्या 34,084 हो गई है, यानि बिहार कोरोना की पहली लहर के पीक को पार कर गया है। कोरोना की पहली लहर में अधिकतम 32,716 एक्टिव मरीज राज्य में थे, इसके बाद केस घटने शुरू हो गए थे। शुक्रवार को सबसे अधिक पटना में 2,116 नए संक्रमित मरीजों की पहचान की गई है। मुजफ्फरपुर दूसरे स्थान पर है, जहां 427 नए मरीज मिले हैं।

बिहार में 20 मई 2021 को बाद पहली बार 6,500 से अधिक केस मिले हैं, तब 6551 नए मरीज मिले थे। स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा कि पटना के पिछले चार-पांच दिनों के ट्रेंड को देखें तो यहां कोई बड़ा जंप नहीं हुआ है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.