BIHARBreaking NewsSTATE

Bihar Election 2020: राजद ने दिया उपेंद्र कुशवाहा को दिया बड़ा झट’का, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष को किया अपने पाले में

Bihar Election 2020: महागठबंधन (Grand Alliance)  में तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav )  के नेतृत्व को नकार कर वहां से निकले रालोसपा (RLSP) प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha)  को राजद (RJD)  ने 28 सितंबर, सोमवार को जोरदार झटका दिया। उपेंद्र की पार्टी रालोसपा के प्रदेश अध्यक्ष भूदेव चौधरी को राजद ने अपने पाले में ले लिया है। नेता प्रतिपक्ष खुद तेजस्वी यादव ने रालोसपा के प्रदेश अध्‍यक्ष भूदेव चौधरी को राजद में शामिल करा लिया। यह उस समय हुआ जब उपेंद्र कुशवाहा नए सिरे अपने ठिकाने को ले मंथन कर रहे हैैं।  राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP)  महागठबंधन (Grand Alliance)  से अलग हो गई है। वर्तमान में उपेंद्र कुशवाहा दिल्‍ली में एनडीए के साथ गठबंधन की राह तलाश रहे हैं। इधर, आज ही बिहार में बने तीसरे मोर्चे  में भी उनके शामिल होने की चर्चा जोरो पर है।

भूदेव चौधरी को रालोसपा ने पिछले वर्ष 2019 के अक्टूबर में ही पार्टी की प्रदेश इकाई की कमान सौंपी थी। तेजस्वी ने भूदेव चौधरी को अपने आवास पर राजद के प्रदेश अध्‍यक्ष जगदानंद सिंह की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता दिलायी।

तेजस्‍वी के नेतृत्‍व को नकार अलग हुए थे उपेंद्र कुशवाहा

 पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha)  ने 24 सितंबर (गुरुवार) को कहा था कि अगर राजद अपने नेतृत्व को बदल देता है तो हमारी पार्टी महागठबंधन में शामिल हो जाएगी। हम अपने लोगों को महागठबंधन में शामिल होने के लिए मना लेंगे। वे पार्टी पदाधिकारियों की आपात बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में उन्हें गठबंधन (alliance)  के जरिए या स्वतंत्र रूप (independent) से चुनाव लड़ने के बारे में फैसला लेने के लिए अधिकृत कर दिया गया था.

राजद का मौजूदा नेतृत्‍व नीतीश के सामने नहीं टिक पाएगा

बता दें कि कुशवाहा ने कहा था कि महागठबंधन में सीटों की संख्या (seat sharing) का मामला नहीं है। हम सीटों की संख्या पर समझौता कर सकते हैं। राज्य की जनता बदलाव चाहती है,लेकिन जनता की यह भी राय है कि वैकल्पिक नेतृत्व ऐसा हो जो नीतीश कुमार के सामने टिक सके। हम पहले भी कह चुके हैं कि राजद का मौजूदा नेतृत्व (तेजस्वी यादव) नीतीश कुमार के सामने नहीं टिक पाएगा।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.