Breaking NewsDELHI

अदालत में सु’नवाई के दौरान कोई वकील खा रहा था गुटखा, कोई पी रहा था हुक्का, लगी फ’टकार

नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में गुरुवार को हुई वर्चुअल सुनवाई में एक वकील गुटखा चबाते हुए नजर आए. वकील के इस व्यवहार पर कोर्ट ने उन्हें कड़ी फटकार लगाई और आगे से सुनवाई के दौरान ऐसा न करने के निर्देश भी दिए. इससे पहले वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव धवन (Senior Advocate Rajiv Dhavan) भी राजस्थान हाईकोर्ट (Rajasthan High Court) में सुनवाई के दौरान हुक्का गुड़गुड़ाते हुए दिखे. ऐसा करते हुए धवन का वीडियो भी वायरल (Video Viral) हो गया. वायरल हुए एक कथित वीडियो में वकील एक ऑनलाइन सुनवाई के दौरान एक हुक्के से कश लेते हुए स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहे हैं. धवन को धूम्रपान के खतरों को लेकर राजस्थान उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति ने उन्हें सलाह भी दे दी.
धवन की जो वीडियो क्लिप वायरल (Viral Video Clip) हुई है उसमें वह सुनवाई के दौरान अपने चेहरे के सामने कुछ कागज पकड़े हुए दिख रहे हैं और इसके पीछे धुएं के छल्ले निकलते दिखाई दे रहे हैं. जब वकील कागज को अलग रख देते हैं तो कुछ सेकंड की इस कथित क्लिप में हुक्के की नोंक दिखाई देती है. यह क्लिप न्यायाधीश महेन्द्र कुमार गोयल की अदालत में मंगलवार की सुनवाई के दौरान की है. धवन बहुजन समाज पार्टी (Bahujan Samaj Party) के छह विधायकों की ओर से पेश हुए थे. इन विधायकों के राजस्थान (Rajasthan) में कांग्रेस (Congress) में विलय को बसपा और भाजपा (BJP_ के एक विधायक द्वारा चुनौती दी गई है.

जस्टिस गोयल ने की ये टिप्पणी
न्यायमूर्ति गोयल की टिप्पणी गुरुवार को उस दौरान सामने आई जब सुनवाई फिर से शुरू हुई. सुनवाई के दौरान हल्के अंदाज में न्यायमूर्ति गोयल ने धवन को सलाह दी कि उन्हें अपनी इस उम्र में धूम्रपान छोड़ देना चाहिए क्योंकि यह स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है. धवन ने जवाब दिया कि वह ऐसा करेंगे. उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि वरिष्ठ वकील वीडियो कॉन्फ्रेंस की सुनवाई के आदी नहीं हैं, लेकिन स्थिति का सामना करने की कोशिश कर रहे हैं.
ये भी पढ़ें- क्या वाकई बसपा के वोटबैंक को भेद पाएंगे भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद?
अप्रैल में राजस्थान उच्च न्यायालय में मामले की ऑनलाइन सुनवाई के दौरान एक अन्य वकील बनियान में दिखाई दिये थे. इसके बाद न्यायाधीश ने स्पष्ट किया था कि वकीलों को तब भी उचित पोशाक में दिखना चाहिए, जब वे अपने मामलों की ऑनलाइन सुनवाई कर रहे हों.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.