Breaking NewsNational

EPFO के नियमों में बदलाव: कोरोना के इलाज के लिए भी PF से निकाल सकते हैं पैसा, जानिए डिटेल्‍स

नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस (coronavirus) की दूसरी लहर के बीच एक बार फिर लॉकडाउन (Lockdown) और जॉब (Job) जाने की वजह से कई लोगों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है. ऐसे में यदि कोई व्यक्ति कोरोना वायरस के चपेट में आ जाए तो इलाज के लिए पैसों का इंतजाम करना भी बड़ी चुनौती है. इसके चलते लोगों को वित्तीय मुश्किलों से निकालने के लिए सरकार ने अहम फैसला किया है. इसके तहत एंप्लॉयी प्रोविडेंट फंड ऑर्गेनाइजेशन (EPFO) ने अब PF की रकम निकालने की शर्तों में दूसरी बार छूट देने का फैसला किया है. अब कोरोना वायरस संक्रमण के इलाज के लिए पीएफ का पैसा निकाला जा सकता है. मालूम हो इससे पहले मार्च 2020 में केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (PMGKY) के तहत एक स्पेशल प्रावधान किया था, जिसके तहत ईपीएफ मेंबर्स पीएफ का 70 फीसदी या तीन महीने की बेसिक सैलरी और महंगाई भत्ता निकाल सकते हैं. 

घर खरीदने के लिए भी निकाल सकते है पैसाअगर आप भी अपना घर खरीदने का सपना पूरा करना चाहते हैं, लेकिन होम लोन की ऊंची ब्याज दरों और सख्त शर्तों के चलते फैसला नहीं कर पा रहे हैं तो आपका पीएफ अकाउंट आपके लिए मददगार हो सकता है. कर्मचारी भविष्य निधि यानी ईपीएफ वह तय रकम होती है, जो वेतनभोगी कर्मचारियों की सैलरी से हर महीने कटता है और एक अकाउंट में जमा होती है. श्रम मंत्रालय के अंतर्गत कार्यरत कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ईपीएफ का प्रबंधन करता है. हर महीने की सैलरी स्लिप में इसकी जानकारी भी मिलती है. कोई भी वेतनभोगी कर्मचारी अपने पीएफ अकाउंट से घर खरीदने के लिए रकम निकाल सकता है. इसके अलावा ईपीएफओ की ओर से यह सुविधा भी दी गई है कि आप अपने घर की खरीद के लिए पीएफ अकाउंट से 90 फीसदी तक की रकम चुका सकते हैं. यही नहीं मासिक ईएमआई भी आप अपने पीएफ अकाउंट के जरिये अदा कर सकते हैं.

मुफ्तमिलतीहै 7 लाखरुपयेतककीराशि

अगर आप ईपीएफओ से जुड़े हुए हैं यानी आपका पीएफ कटता है तो फिर संगठन की ओर से आपको लाइफ इंश्योरेंस की सुविधा दी जाएगी. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) अपने सदस्यों को 7 लाख रुपये तक के जीवन बीमा (Life Insurance) की सुविधा दे रहा है. दरअसल, EPFO के सभी सब्सक्राइबर इंप्लॉइज डिपॉजिट लिंक्ड इंश्योरेंस स्कीम, 1976  (EDLI) के तहत कवर होते हैं. इसके तहत ईपीएफओ धारक को 7 लाख रुपये तक बीमा कवर मिलता है. पहले यह राशि 6 लाख रुपये थी. श्रम मंत्री संतोष गंगवार की अध्यक्षता वाले ईपीएफओ के सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज (CBT) ने 9 सितंबर 2020 को EDLI योजना के तहत अधिकतम बीमा राशि बढ़ाकर 7 लाख रुपये करने का फैसला किया था.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.