BIHARBreaking NewsSIWANSTATE

सीवान के चर्चित ते’जाब कां’ड के बाद शहाबुद्दीन को अपने दम पर तिहाड़ जे’ल पहुंचाने वाले चंदा बाबू का नि’धन

बिहार के बहुचर्चित तेजाब कांड के बाद अकेले दम पर बाहुबली नेता शहाबुद्दीन को जेल की सलाखों के पीछे पहुंचाने वाले चंद्रकेश्वर प्रसाद उर्फ चंदा बाबू का निधन हो गया है। बुधवार की रात अचानक तबीयत खराब होने के बाद उन्हें इलाज के लिए सदर अस्पताल ले जाया गया था जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

इस बीच चंदा बाबू के नि’धन की खबर के बाद उनके घर सात्वना देने वालों का ताता लगा है। बताया जा रहा है कि चंदा बाबू पिछले कुछ दिनों से बीमा’र थे। हाल में डॉक्टरों की सलाह पर वे बाहर से इलाज कराकर भी लौटे थे लेकिन बुधवार को हृदय गति अचानक रूक जाने से उनका नि’धन हो गया।

बिहार का चर्चित तेजाब ह’त्याकां’ड

शहाबुद्दीन जैसे बाहुबली से डटकर कानूनी मुकाबला करने की वजह से चंदा बाबू चर्चित रहे। शहाबुद्दीन से उनकी कानूनी लड़ाई 2004 के बहुचर्चित तेजाब कांड से शुरू हुई। दरअसल, चंदा बाबू सीवान में दुकानदार के तौर पर काम करते थे।

बात 16 अगस्त, 2004 की है जब कुछ बद’माश उनके दुकान पर रंग’दारी मांगने पहुंचे। उस समय चंदा बाबू के बेटे दुकान पर थे। रंगदारी की मांग को लेकर बेटों की बद’माशों से बहस हो गई। बदमाशों ने चंदा बाबू के दो बेटों पर ते’जाब डाला और उन्हें मार डाला। हालांकि तीसरा भाई बच गया।

इसके बाद चंदा बाबू ने शहाबुद्दीन के खिलाफ कानूनी लड़ाई की शुरुआत की। ये आसान नहीं था लेकिन चंदा बाबू कभी पीछे नहीं रहे। उस समय बिहार की राजनीति में बाहुबलियों का काफी दबदबा था। साल 2005 में नीतीश कुमार की सरकार आने के बाद शहाबुद्दीन पर कानूनी कार्रवाई तेजी से बढ़ी।

चंदा बाबू के तीसरे बेटे की भी ह’त्या

शहाबुद्दीन के खिलाफ चंदा बाबू की लड़ाई लंबे समय तक चली लेकिन दुर्भाग्य ने उनका पीछा नहीं छोड़ा। साल 2014 में 16 जून को चंदा बाबू के तीसरे बेटे राजीव की भी गो’ली मा’रकर कुछ बद:माशों ने ह’त्या कर दी। राजीव उस तेजाब कांड का एकमात्र गवाह था।

बहरहाल, शहाबुद्दीन पर का’र्रवाई हुई और वो अभी इसी मामलें में दिल्ली के तिहाड़ जे’ल में बंद हैं। बता दें कि कुछ महीने पहले ही चंदा बाबू की पत्नी का निधन हो गया था जिसके बाद वे अकेले रह गए थे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.