Breaking NewsNational

आयुष्मान भारत योजना के तहत बिहार के 5 करोड़ गरीबों को मेदांता में मिलेगी इलाज की सुविधा

बिहार में 5 करोड़ गरीबों को मेदांता अस्पताल में इलाज कराने की बेहतर सुविधाएं जल्द मिलेंगी। पटना में संचालित सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल मेदांता में आयुष्मान भारत योजना के तहत निबंधित गरीब परिवार अपना इलाज करा सकेंगे। इस नवनिर्मित अस्पताल में अभी आउटडोर की सुविधा दी जा रही है। अगले दो माह में यहां इंडोर इलाज की सुविधा भी शुरू हो जाएगी। 

स्वास्थ्य विभाग के सचिव लोकेश कुमार सिंह के अनुसार आयुष्मान भारत योजना के तहत राज्य में 1 करोड़ 8 लाख परिवार लाभार्थी हैं। इनमें कुल 5 करोड़ 50 लाख व्यक्ति लाभ के दायरे में आते हैं। इन्हें राज्य व राज्य के बाहर भी सरकारी एवं निबंधित निजी अस्पतालों में इलाज की सुविधाएं हासिल हैं। एक परिवार को एक साल में पांच लाख रुपये तक का नि:शुल्क इलाज कराने की सुविधा आयुष्मान भारत योजना के तहत दी गयी है। 

2 लाख 7 हजार मरीजों का हो चुका है इलाज 
जानकारी के अनुसार बिहार में आयुष्मान योजना के तहत अबतक दो लाख सात हजार मरीजों का इलाज किया जा चुका है।  करीब 53.92 लाख पात्र लाभार्थियों एवं करीब 25.02 लाख परिवारों को गोल्डन कार्ड जारी किए जा चुके हैं। इस योजना के तहत राज्य में अबतक 833 अस्पताल जुड़े हैं। इनमें  569 सरकारी और 264 निजी अस्पताल शामिल हैं। 

अबतक 144 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान 
इन अस्पतालों को अबतक 144 करोड़ से अधिक का भुगतान किया जा चुका है। इन सभी अस्पतालों में  भर्ती व डिस्चार्ज के दौरान मरीजों का अनिवार्य रूप से प्रमाणीकरण किया जाता है। 

आयुष्मान भारत के तहत इन बीमारियों का इलाज 
आयुष्मान भारत योजना के तहत हृदय रोग, हृदय शल्य चिकित्सा, आंखों के रोग एवं उनके ऑपरेशन,  कान, नाक एवं गला संबंधी रोग, हड्डी रोग, मूत्र रोग, हृदय में स्टंट डलवाना, बाईपास सर्जरी, कार्डियोथोरेसिक सर्जरी, न्यूर सर्जरी, न्यूरो रेडियोलॉजी, प्लास्टिक सर्जरी, बर्न सर्जरी, वॉल्व रिप्लेसमेंट, घुटना बदलना या घुटने की सर्जरी, कुल्हे का ऑपरेशन व कैंसर सहित अन्य प्रमुख रोगों का इलाज कराया जा सकता है। 


मेदांता अस्पताल में आयुष्मान भारत के तहत निबंधित मरीजों को सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल के इलाज की सभी सुविधाएं हासिल होंगी। – मंगल पांडेय, स्वास्थ्य मंत्री, बिहार सरकार 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.