BIHARBreaking NewsMUZAFFARPURSTATE

#MUZAFFARPUR: औराई के दर्जनभर गांवों में घुसा बाढ़ का पानी, कटरा के निचले इलाके में फैल रहा पानी

जिले के औराई प्रखंड में उफनाई बागमती का पानी सोमवार को तेजी से बांध के अंदर बसे गांवों में फैलने लगा है। रात तक दर्जनभर गांव बाढ़ के पानी में घिर गए हैं। लोग निजी नाव के सहारे सुरक्षित स्थानों की ओर पलायन कर रहे हैं। हालांकि पानी अभी किसी घर में नहीं घुसा है। लेकिन लोगों का कहना है कि जिस रफ्तार में पानी बढ़ रहा है। मंगलवार तक स्थिति विकट हो जाएगी। परियोजना के उत्तरी तटबंध के समानांतर उप धारा में भी पानी का बहाव तेज है। बभनगामा पूर्वी में बागमती की उप धारा व मुख्य धारा पर बनी दोनों चचरी पुल बह गये हैं। अचनाक किसानों के खेत में पानी आ जाने से काफी नुकसान हुआ है। पशुचारा समेत कई समस्याओं का सामना करना पर रहा है। ​

इधर लगातार हो रही बारिश से बागमती तटबंध पर विस्थापितों का जनजीवन अस्त व्यस्त बना हुआ है। हालांकि क्षेत्र में बहने वाली अन्य सहायक नदियों के जलस्तर में अब तक किसी प्रकार की वृद्धि के संकेत नहीं हैं। बागमती परियोजना दोनों बांध के बीच रह रहे बभनगामा पश्चिमी, चहुंटा टोला, हरनी टोला, राघोपुर, तरवन्ना, मधुबन प्रताप, बाड़ा बुजुर्ग, बाड़ा खुर्द, महूआरा, बेनीपुर मूलगांव समेत कई गांव के स्थानीय लोग सहमे हुए हैं। अभी उनके घर तक जाने के लिए केवल नाव ही सहारा है।

दूसरी ओर बागमती की मुख्यधारा और उप धारा की बेनीपुर के निकट धारा की दूसरी छोड़ पर कहीं-कहीं कटाव शुरू हो गया है। मुख्यधारा से अधिक उप धारा में पानी का बहाव तेज है। इसको लेकर तटबंध पर दबाव बढ़ गया है। वहीं सीओ ज्ञानानंद ने बताया कि तटबंध की सुरक्षा को लेकर जल संसाधन विभाग को कहा गया है। वैसे थानाध्यक्ष राजेश कुमार ने भी तटबंधों का मुआयना कर चौकीदार को सतर्कता बरतने व नाव पर भार क्षमता से ज्यादा नहीं लोड करने का आदेश दिया है।​

इधर, कटरा में बाढ़ का पानी तेजी से निचले इलाके में फैलने लगा है जिससे प्रभावित गांव के लोग ऊंचे जगहों की तरफ पलायन करने लगे हैं। पिछले दिनों नदी में पानी आने के बाद से आवागमन प्रभावित है। प्रखंड की सवा लाख की आबादी के समक्ष आवागमन की समस्या बनी हुई है। इधर, बकुची स्थित बागमती की तेज धारा की वजह से पुल पर लगातार दबाव बना हुआ है। पुल की मरम्मत कार्य से करीब दो घंटे तक तक आवागमन बाधित रहा।

Input : Hindustan

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.