Breaking News

Muz / सेहत का ख्याल:आपके वार्ड का पानी कितना शुद्ध, अब हर माह पंचायत स्तर पर ही होगी जांच

सात निश्चय योजना के तहत वार्डों व मोहल्ले में लगे नल के जल की शुद्धता की जांच अब हर माह पंचायत स्तर पर ही होगी। पांच पैरामीटर पर पानी की जांच हाेगी, जिससे यह पता चलेगा कि पंपों का पानी शुद्ध व पीने लायक है या नहीं। अब तक जिलास्तर पर पीएचईडी के जल जांच प्रयोगशाला में ही पानी की जांच कराई जाती है।

लेकिन, अब सरकार ने पंचायत स्तर पर ही पानी की शुद्धता की जांच कराने का निर्णय लिया है। इसके लिए पीएचईडी ने जिले की सभी पंचायतों से एक-एक पंप ऑपरेटर को फील्ड स्किल्ड के रूप में चयनित किया है। इन्हें प्रशिक्षण देने के साथ एक-एक फील्ड टेस्ट किट उपलब्ध कराया जा रहा है।

जिससे ये अपनी-अपनी पंचायतों के सभी वार्डाें में नल जल योजना के पानी की प्रत्येक माह जांच कर उसकी शुद्धता का पता लगा सकें। विभाग से अबतक जिले के मुजफ्फरपुर तथा मोतीपुर डिविजन को 340 फील्ड टेस्ट किट उपलब्ध हाे गया है।

सभी पंप ऑपरेटरों को टेस्ट किट के साथ एक-एक रिफिल पैक व 200 स्ट्रीप वायल भी उपलब्ध कराया जा रहा है। अब ये ट्रेंड वाटर पंप चालक अपनी पंचायत में नल के जल की प्रत्येक माह जांच करने के साथ ही उसकी रिपोर्ट पंचायत स्तर पर रखेंगे।

जांच में पता चलेगा पानी में किसी प्रकार के कीटाणु तो नहीं

पंचायत स्तर पर पानी की शुद्धता की जांच के दौरान प्रारंभ में लाेगाें के लिए अत्यधिक हानिकारक पांच अवयवों की जांच हाेगी। फील्ड टेस्ट किट से सभी पंप चालक पानी के पीएच, अल्कलाइनिटी, हाइनेश, क्लाेराइड, नाइट्रेट तथा एच-2 एस वायल की जांच करेंगे। इस जांच से पता चल जाएगा कि पानी में किसी प्रकार के कीटाणु हैं या नहीं।

साथ ही उसके हार्डनेस के साथ ही पीएच मान का पता चलने से पानी की शुद्धता तथा उसके पीने लायक हाेने की जानकारी मिल जाएगी। प्रशिक्षण में नल जल योजना का महत्व की जानकारी देने के साथ ही उसकी निगरानी कैसे करनी है, पानी जांच के लिए नमूना कैसे लेना है, पानी लेने के बाद उसकी लेवलिंग कैसे करना है, नमूने को लैब तक कैसे ले जाना है आदि जानकारी दी जाएगी।

चयनित पंप ऑपरेटर को जल जांच प्रयोगशाला के केमिस्ट व जेई दे रहे ट्रेनिंग

पीएचईडी के जल जांच प्रयोगशाला के केमिस्ट वृहस्पति यादव ने बताया कि सभी पंचायतों से चयनित एक-एक पंप चालक को प्रखंडवार ट्रेनिंग जल जांच प्रयोगशाला के केमिस्ट तथा कनीय अभियंता द्वारा दी जा रही है। पिछले एक सप्ताह में अबतक सकरा, बंदरा, मुराैल, मुशहरी, गायघाट, बाेचहां, मोतीपुर के पंप ऑपरेटरों को फील्ड स्किल्ड के रूप में प्रशिक्षण दिया गया है। प्रशिक्षण के बाद सभी को फील्ड टेस्ट किट भी उपलब्ध कराया जा रहा है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.