Breaking News

नेपाल में बारिश:लालबकेया और बागमती रात में खतरे के निशान के पार थी, अब घ’टने लगा जलस्तर

नेपाल से निकलकर अनुमंडल परिक्षेत्र के पूर्वी सीमा से होकर बहने वाली लालबकेया व बागमती नदी के जलस्तर में बुधवार की सुबह गिरावट शुरू हुई जो लगातार अब घट रहा है। मंगलवार की रात दोनों ही नदियों का जलस्तर खतरे के निशान से उपर था। मंगलवार की रात बागमती 61.62 मीटर पर तो लालबकेया 71.80 मीटर पर बह रही थी। इधर पूरे दिन नेपाल के कैचमेंट एरिया में जबरदस्त बारिश होने के कारण एकबारगी जल निस्सरण विभाग के अधिकारियों के कान खड़े हो गए थे। ै इन नदियों के जलस्तर में भारी इजाफा हो पर सुबह होते होते दोनों ही नदियों का जलस्तर नीचे गिर गया और लगातार नीचे की ओर डाउनफॉल जारी है। दिन के तीन बजे लालबकेया खतरे के निशान 71.15 से नीचे 70.80 पर बह रही थी। तो बागमती खतरे के निशान 61.28 से नीचे 61.20 पर बह रही थी।

बांध की सुरक्षा को लेकर जल निस्सरण के अधिकारी करते रहे चौकसी

पुछरिया को गंडक की बाढ़ ने चारों तरफ से घेरा

संग्रामपुर | बराज से छोड़े गए पानी के कारण गंडक नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ कर भीषण बाढ़ का रूप ले चुका है जसबसे चिंताजनक स्थिति लगभग दस हजार की आबादी वाले पुछरिया गांव की है। जिसके चारों तरफ से गंडक का पानी भर चुका है और धीरे-धीरे लोगों के दरवाजे तक पानी चढ़ना शुरू हो गया है।

बूढ़ी गंडक नदी का कटाव जारी

बंजरिया| बंजरिया प्रखंड के अलग-अलग जगहों पर बूढ़ी गंडक नदी कटाव कर रही है। कटाव मोहम्मदपुर में सबसे अधिक हो रहा है। यहां नदी लोगों के घर तक पहुंच गई है। यहां दो दिन से कटाव हो रहा है। नदी अभी 10 मीटर लंबा व डेढ़ से दो मीटर चौड़ाई में कटाई की है।

सुगौली | प्रखंड के सुकुलपाकड़ के धुमनी टोला के समीप ध्वस्त बांध से सिकरहना नदी का पानी तेजी से लालपरसा, चिलझपटी, बड़हरवा गांव के सरेह में प्रवेश कर रहा है। चिलझपटी पुल से होकर पानी निकलकर पूर्व-उत्तरी क्षेत्र के सरेह में जाने लगा है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.