Breaking News

अररिया में दो इंजीनियर तो नरकटियागंज में सुपरवाइजर का पति:घूस लेते हुए निगरानी की टीम ने दबोचा

निगरानी अन्वेषण ब्यूरो ने बुधवार को ताबड़तोड़ कार्रवाई की है। दो जिलों में छापेमारी कर तीन घूसखोरों को गिरफ्तार किया। इसमें दो ग्रामीण कार्य विभाग के इंजीनियर हैं, जबकि एक महिला सुपरवाइजर का पति है। इन्हें ट्रैप करने की कार्रवाई को अररिया और पश्चिम चंपारण जिले में अंजाम दिया गया है।null

दोनों ही मामलों में बिल का भुगतान करन के एवज में रिश्वत की मांग की गई थी। बड़ी बात यह है कि अररिया में एक इंजीनियर को पकड़ने के बाद जब निगरानी की टीम ने उसके किराए के घर को खंगाला तो वहां से 6.50 लाख रुपए अलग से मिल गए। जिसे टीम ने जब्त कर लिया है।

एक 62 हजार तो दूसरा ले रहा था 40 हजार
हेमचंद्र लाल कर्ण असिस्टेंट इंजीनियर हैं। इनकी पोस्टिंग त्रिवेणीगंज में है। जबकि, जूनियर इंजीनियर फुलेश्वर रजक सिकटी में पोस्टेंड हैं। इन दोनों के पास से रिश्वत के 1 लाख 2 हजार रुपए बरामद हुए हैं। दरअसल, इनके खिलाफ नालंदा जिले में हिलसा थाना के तहत गणपत बिगहा के रहने वाले शिव कुमार वर्मा ने 8 जुलाई को निगरानी मुख्यालय में कंप्लेन किया था। SDM करण बाबू और जूनियर इंजीनियर फुलेश्वर रजक पर ठेकेदारी के किए गए काम के भुगतान पर रिश्वत मांग रहे हैं।

जांच और कार्रवाई की जिम्मेवारी DSP अरूण पासवान को दी गई। तब इनकी टीम ने छापेमारी कर हेमचंद्र लाल कर्ण को 62 हजार रुपए के साथ उनके किराए के मकान से पकड़ा। इनके घर से ही 6.50 लाख रुपए अलग से मिले। जिसे जब्त किया गया है। वहीं, फुलेश्वर रजक को 40 हजार रुपए अपने ऑफिस से लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा गया। गिरफ्तारी और पूछताछ के बाद इन दोनों को भागलपुर के निगरानी कोर्ट में पेश किया गया और ज्यूडिशियल कस्टडी में भेज दिया गया।

साढ़े 13 हजार की ले रहा था रिश्वत
पश्चिम चंपारण जिले के गौनाहा स्थित CDPO ऑफिस में रेणू कुमारी सुपरवाइजर हैं। निगरानी की टीम ने इनके पति राजेश कुमार गुप्ता को 13 हजार 500 रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा। इनकी गिरफ्तारी नरकटियागंज स्थित घर के सामने रोड पर से हुई। इनके खिलाफ पश्चिम चंपारण के सुभाद्रा थाना के तहत भतुजला गांव की रहने वाली सुनीता कुमारी ने 25 जुलाई को शिकायत की थी।

निगरानी मुख्यालय को बताया था कि पोषाहार वितरण और मानदेय भुगतान के लिए रिश्वत की मांग की जा रही है। जिसके बाद पटना से एक टीम गई। जिसने जांच के बाद इस कार्रवाई को अंजाम दिया। गिरफ्तार राजेश कुमार गुप्ता को मुजफ्फरपुर के निगरानी कोर्ट में पेश किया गया और वहां से ज्यूडिशियल कस्टडी में भेज दिया गया।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.