Breaking News

गड्ढों पर डीएम का अल्टीमेटम: फरदो नाले का पानी डाउन होने के इंतजार में मोतीझील में अब भी नहीं शुरू हुआ काम

तकरीबन एक माह से मोतीझील में ड्रेनेज बनाने के लिए गड्ढा करके छोड़ दिया गया है। गड्ढा तो कर दिया गया लेकिन काम 25 प्रतिशत भी नहीं हो सका है। मोतीझील बाटा चौक के निकट छोड़ दो नाला के पानी का लेवल डाउन होने के इंतजार में गुरुवार को भी काम शुरू नहीं हो सका। छोटी सरैयागंज रोड में भी ऐसी ही बदहाली है। इन दोनों जगह स्मार्ट सिटी से नाला बनाने के लिए सड़क खोदकर छोड़ा हुआ है।

बारिश को देखते हुए खोदे गए गड्ढे भरने के लिए डीएम के अल्टीमेटम का महज 18 दिन अब बचा हुआ है। दूसरी ओर, स्मार्ट सिटी की टीम फेस लिफ्टिंग के तहत सूतापट्टी में जबकि कलमबाग रोड में बुडको की निर्माण एजेंसी कल्वर्ट बनाने में जुटी हुई है। पथ निर्माण विभाग का भी ब्रह्मपुरा थाना के पास नाला बनाने का काम चल रहा है।

नाले के सड़े हुए पानी से लोग आने-जाने को हो रहे मजबूर

मोतीझील व छोटी सरैयागंज में नाला बनाने के लिए गड्ढा खोदने से लोग सबसे ज्यादा परेशान हैं। शहर के ये प्रमुख इलाके हैं। छोटी सरैयागंज में नाले का पानी सड़क पर बह रहा है। मजबूरी ये कि इसी सड़े हुए पानी से लोग आ जा रहे हैं। धर्मशाला चौक के पास भी नाला बनाने का काम ठप है। मोतीझील में काम को लेकर निर्माण एजेंसी की दलील है कि उच्च क्षमता का मोटर लगाने के बाद भी मोतीझील नाला का पानी नहीं निकल रहा है। बिना पानी निकाले नाला में काम नहीं हो सकता।

सवाल ये कि आखिर ऐसी स्थिति में समाधान क्या है | मोतीझील नाले का पानी फरदो नाला होकर ही निकलने का एकमात्र रास्ता है। कल्याणी व मोतीझील के बीच नाले के सड़े हुए पानी से लोगों का आना जाना लगा हुआ है। फरदो नाला में ही कलमबाग रोड में कल्वर्ट का काम चल रहा है। इसकी वजह से पानी निकलने पर ब्रेक लग रहा है। मोतीझील में जहां गड्ढा करके छोड़ा हुआ है वहां नाला बनाने के लिए विकल्प की तलाश की जा रही है।

ये शहर का सबसे बड़ा पेन एरिया- दैनिक भास्कर कर रहा मॉनिटरिंग

काम पूरा कर शहर के बेतरतीब गड्‌ढों को भरने के लिए डीएम ने 30 मई तक का अल्टीमेटम दिया है। शहर की इस सबसे बड़ी समस्या की मॉनिटरिंग दैनिक भास्कर लगातार कर रहा है। सजग नागरिक होने के नाते आप भी अपने क्षेत्र में चल रहे काम पर नजर रखें।

आप हमें कोई भी जानकारी 9431461305 और 8770590675 नंबरों पर वाट्सएप कर सकते हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.