BIHARBreaking NewsSTATE

अब सब्जियों के दाम में आई जबरदस्‍त तेजी! जानें क्‍यों दिल्‍ली समेत सभी महानगरों में 72 रुपये प्रति किलो बिक रहा टमाटर

नई दिल्ली. देश में पेट्रोल-डीजल (Petrol-Diesel) और गैस की कीमतों (Gas Prices) में तो पहले से ही इजाफा हो रहा है. अब सब्जियों के दाम (Prices of Vegetables) भी बढ़ने लगे हैं. खासकर देश के चार बड़े मेट्रो शहरों (Metro Cities in India) में टमाटर के दाम (Tomato Prices) आसमान छूने लगे हैं. इन मेट्रो शहरों में टमाटर प्रति किलो 72 रुपये पार चला गया है. बता दें कि महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश जैसे प्रमुख उत्पादक राज्यों में बेमौसम बारिश के कारण टमाटर की आपूर्ति बाधित हो रही है. इस कारण मेट्रो शहरों के खुदरा बाजारों में टमाटर की कीमतें 72 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गई हैं.

बता दें कि मेट्रों शहरों में टमाटर के सबसे ज्यदा खुदरा रेट कोलकाता में देखने को मिले हैं. कोलकाता में तो इस महीने के शुरुआत में टामटर के दाम 35 से 38 रुपये प्रति किलो थी, लेकिन 12 अक्टूबर पहुंचते-पहुंचते 72 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गई.

टमाटर के दाम मेट्रो शहरों में आसमान पर
उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के आंकड़ों की बात करें तो दिल्ली और चेन्नई में टमाटर की खुदरा कीमतें एक महीने पहले की अवधि की तुलना में ₹30 प्रति किलोग्राम और ₹20 प्रति किलोग्राम से बढ़कर ₹57 प्रति किलोग्राम तक पहुंच गई है. इन आंकड़ों से पता चलता है कि मुंबई में खुदरा बाजारों में टमाटर की कीमत बहुत कम ही दिनों में ₹15 प्रति किलोग्राम से बढ़कर ₹53 प्रति किलोग्राम हो गई.

एशिया की सबसे बड़ी मंडी का क्या हाल है?
आजादपुर सब्जी मंडी के टमाटर एसोसिएशन के मुताबिक, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र जैसे उत्पादक राज्यों में बेमौसम बारिश ने फसल को नुकसान पहुंचाया है, जिससे दिल्ली जैसे बाजारों में आपूर्ति प्रभावित हुई है. इससे थोक और खुदरा दोनों बाजारों में कीमतों में वृद्धि हुई है

Tomato prices fell by Rupees 4 per kg as supply from producing states increased know how achs
मेट्रों शहरों में टमाटर के सबसे ज्यदा खुदरा रेट कोलकाता में देखने को मिले हैं.

क्यों टमाटर के दाम में आग लगी?
बता दें कि चीन के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा टमाटर उत्पादक देश भारत है. राष्ट्रीय राजधानी में आजादपुर मंडी फलों और सब्जियों के लिए एशिया का सबसे बड़ा थोक बाजार है. इसके साथ ही शिमला जैसे पहाड़ी क्षेत्रों में भी बेमौसम बारिश के कारण फसल प्रभावित हुई है. माना जा रहा है कि बेमौसम बारिश से उत्पादक राज्यों में टमाटर की 60 प्रतिशत फसल बर्बाद हो गई है.

7 दिन में टमाटर के दाम कितने बढ़े?
आजादपुर मंडी में एक महीने में टमाटर की कीमतें लगभग दोगुनी होकर 40-60 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गई है. क्योंकि, टमाटर के आवक में 250-300 टन की कमी आई गई है. वर्तमान में मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक के प्रमुख उत्पादक राज्यों में कटाई चल रही है. टमाटर की फसल बोने के लगभग 2-3 महीने में कटाई के लिए तैयार हो जाएगी और बाजार की आवश्यकता के अनुसार कटाई की जाएगी.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.