BIHARBreaking News

मुजफ्फरपुर : हवन से जुड़े समाग्रियों की जमकर हुई खरीदारी

मुजफ्फरपुर : हवन से जुड़े समाग्रियों की जमकर हुई खरीदारी
मुजफ्फरपुर। दुर्गा पूजा पर्व का नवमी 14 अक्टूबर को है। नवरात्रा करने वाले भक्त गुरुवार को नवमी को हवन करेंगे। नवमी के पूर्व संध्या पर बुधवार को विभिन्न बाजारों में पर्व से जुड़े समाग्रियों की जमकर खरीदारी हुई। दुकानों पर खरीदारों की हुजूम बनी रही। इस बार पूजा समाग्रियों की कीमत में बीस प्रतिशत का इजाफा हुआ है।

जिले के गांव से लेकर शहर तक हवन में काम आने वाले वस्तुओं से बाजार पट गया है। शहर के हरेक चौक-चौराहों पर इन समाग्रियों की फुटकर दुकानदार बिक्री कर रहे है। इन दुकानों पर कलश, चूंदरी, नारियल एवं पूजा समाग्री को बिक्री के लिए रखे गये हैं। इन दुकानों पर खरीदारों की हुजूम देखी जा रही है।

हालांकि इसबार पर्व में काम आने वाली वस्तुओं की कीमत में लगभग बीस प्रतिशत का इजाफा हुआ। बावजूद इसके बाजार में समाग्रियों की कोई कीमत निर्धारित नहीं है। जितना में ग्राहक पट जाये दुकानदार वस्तु के बेचने में लगे है।

शहर के सरैयागंज, कल्याणी चौक, धर्मशाला चौक, कलमबाग रोड, अधोरिया बाजार, कच्ची पक्की, छाता चौक, माड़ीपुर, भगवानपुर, बैरिया, लक्ष्मी चौक, मिठनपुरा, जेल चौक, जीरो माईल, अखाड़ाघाट, बालूघाट आदि इलाकों में फुटपाथी दुकानें खुली हुई है। जहां पर्व में काम आने वाली वस्तुकी बिक्री जमकर हो रही है।

शहर के विभिन्न बाजारों में पर्व में काम आने वाली चुंदरी जहां 20 से 600 रुपये पीस, सुखा नारियल 25 से 30 रुपये पीस की दर से बिक्री हुई। मखान 600 रुपये प्रतिकिलो, धूप 140 से 160 रुपये प्रतिकिलो, जटामसीह 800 रुपये प्रतिकिलो, नागरमोथा 600 रुपये प्रतिकिलो, फूल 1200 रुपये प्रतिकलो, धूप वाला लकड़ी 120 से 140 रुपये प्रतिकिलो, वहीं सिंगार सेट 50 से 120 रुपये, लहठी 20 से 60 रुपये सेट, रिबन 5 से 10 रुपये मीटर, सिंदूर, बिंदी 2 से 5 रुपये पीस, आइना 5 से 20 रुपये पीस, कगही 2 से 10 रुपये पीस एवं अलता 5 से 10 रुपये पीस की दर से बेचा गया।

इसके साथ ही बाजार में काला तिल 100 से 120 रुपये प्रतिकिलो, जौ 80 रुपये प्रतिकिलो, अरबा चावल 30 से 60 रुपये प्रतिकिलो की दर से बिका। वहीं पान एक रुपये पीस व नवग्रह का लकड़ी 10 से 20 रुपये पॉकेट की दर से बेचा गया। टीन के बने हवन कुंड 140 से लेकर 380 रुपये पीस की दर से बिका।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.