BIHARBreaking NewsSTATE

बैंक की गलती से खाते में आए डेढ़ लाख, वापस मांगे तो बोला शख्स- PM मोदी ने भेजे हैं, क्यों लौटाऊं?

खगड़िया. बिहार के खगड़िया जिले (Khagaria district of Bihar) में एक ऐसा मामला सामने आया है. जिसे जानकर आप भी हैरान रह जायेंगे. दरअसल ग्रामीण बैंक की गलती से यहां के रहने वाले रंजीत दास के खाते में 1 लाख 60 हजार 970 रुपये चले गये. पुलिस के मुताबिक जिस शख्स के खाते में यह पैसा गया, उसने दावा किया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के द्वारा उसे भेजा गया है. इसके बाद उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा. उसने खुशी में सारे रुपए खर्च कर दिए. बाद में जब बैंक के दबाब पर भी उसने पैसे वापस नहीं किये तो पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.

मानसी थाना प्रभारी दीपक कुमार के अनुसार खगडिया जिले के बख्तियारपुर के रहने वाले रंजीत दास नाम के एक शख्स के खाते में दक्षिण बिहार ग्रामीण बैंक, मानसी की गलती से 1 लाख 60 हजार 970 रुपए अचानक आ गये. वह शख्स यह सोचकर खुश हो गया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उसके खाते में रुपये भेजे हैं. इसके बाद उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा. उसने खुशी में सारे रुपए खर्च कर दिए. बाद में बैंक ने दबाव बनाकर उससे पैसा वापस करने की कोशिश की. लेकिन, पैसा वापस नहीं दिये जाने पर बैंक ने उसके खिलाफ मामला दर्ज करवा दिया. जिसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.

दझिण बिहार ग्रामीण बैंक मैनेजर सत्य नारायण प्रसाद से मिली जानकारी के मुताबिक बैंक ने भूल से रंजीत दास के खाते में एक लाख 60 हचार रुपये भेज दिए थे. बैंक को जब अपनी भूल का अहसास हुआ तो खाताधारी से पैसे वापस करने को कहा. मगर खाताधारी ने इस खुशी में सारे पैसे खर्च कर दिए थे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उन्हें ये पैसे भेजे हैं. जिसके बाद उसने कहा कि वो रकम वापस नहीं करेंगे.

बैंक द्वारा कई बार रंजीत के पास वापसी को लेकर नोटिस दिया बावजूद जब रुपए वापस नहीं किए गए तो बैंक ने केस दर्ज कराया. लेकिन खगडिया जिले के मानसी थाने में दर्ज एफआईआर के मुताबिक तारा देवी नाम की एक महिला के खाते से रंजीत दास ने एक ग्राहक सेवा केन्द्र से आधार कार्ड के जरीये ये पैसे उडा लिये. जिसको लेकर मामला भी दर्ज कराया गया था.

बहरहाल, इस मामले में हकीकत क्या है अभी इसकी जांच की जा रही है. लेकिन आरोपी से पूछताछ में जो मामले सामने आये उसके मुताबिक यह पूरा वाकया इलाके में चर्चा का विषय बना हुआ है. यह मामला प्रशासन के लिये सिर दर्द बना हुआ है जिसमें बैंक ने एफआईआर दर्ज कुछ और कराया है और आरोपी पूछताछ में कुछ और बता रहा है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.