BIHARBreaking NewsMUZAFFARPURSTATE

मुजफ्फरपुर : ऑक्सीजन की कमी से अटकीं अस्पतालों की सांसें / 325 भर्ती मरीजों के लिए चाहिए कम से कम 900 सिलेंडर, उपलब्ध मात्र 300

ऑक्सीजन और सिलेंंडर की कमी से कोविड अस्पतालों की सांसें भी अटकने लगी हैं। संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही, पर अस्पतालों में सप्लाई जरूरत की एक तिहाई भी नहीं है। अभी जिले के कोविड अस्पतालों में 325 मरीज भर्ती हैं जिनके लिए 900 बड़े सिलेंडर चाहिए। लेकिन, आपूर्ति 300 से 350 सिलेंडर की हो पा रही है।

सिर्फ एसकेएमसीएच में करीब 200 मरीज हैं। इनके लिए अस्पताल ने जिला प्रशासन से प्रतिदिन 700 सिलेंडर की मांग कर रखी है, लेकिन 200 मिलना भी मुश्किल है। रविवार काे तो मात्र 120 सिलेंडर मिले। सोमवार को मरीज के परिजनों को 4-5 घंटे लाइन में लगने पर भी प्लांट से ऑक्सीजन नहीं मिली। मेडिका हॉस्पीटल के डॉ. खालिद ने कहा कि जरूरत 60 सिलेंडर की है तो 20-25 मिलते हैं। खाली सिलेंडर और किट भी आउट ऑफ मार्केट हैं। ऑक्सीजन रहने पर लाेग सिलेंडर के लिए भटकते रहते हैं। खाली सिलेंडर एजेंसी से लेकर प्लांट तक देने के लिए तैयार नहीं हैं। किट तो बाजार में बिल्कुल नहीं मिल रहा।

एसकेएमसीएच की मांग 700 सिलेंडर प्रतिदिन, 200 भी नहीं मिल रहे

एक नजर में आंकड़े

एक नजर में आंकड़े

कहते संचालक- जरूरत के अनुसार ऑक्सीजन-सिलेंडर मिले ताे पूरे अस्पताल काे बना देंगे काेविड केयर सेंटर

कई निजी अस्पताल संचालक ऑक्सीजन की कमी से मरीज काे भर्ती नहीं ले रहे। मां जानकी के प्रतिनिधि मुकुल कुमार ने कहा कि पर्याप्त ऑक्सीजन मिले तो पूरे अस्पताल को कोविड केयर सेंटर बना देंगे। प्रसाद हॉस्पिटल के संचालक डॉ. अभिनव ने कहा कि खाली सिलेंडर व किट आउट ऑफ मार्केट हैं। 50 मरीजाें के लिए कम से कम 100 सिलेंडर चाहिए। एसकेएमसीएच कोविड क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी के मेंबर डॉ. संजय कुमार ने कहा कि यहां 500 सिलेंडर से कम में ताे काम ही नहीं चल सकता है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.