Breaking NewsUTTAR PRADESH

20 साल पहले राजनाथ सिंह ने जिस बेटे को लिया था गोद, उसकी शादी में पहुंचकर दिया आशीर्वाद

लखनऊ: देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह शनिवार को गाजीपुर जिले के सैदपुर पहुंचे. लेकिन वो यहां किसी राजनीतिक कारण से नहीं गए. बल्कि अपने दत्तक पुत्र की शादी में शामिल हुए. राजनाथ सिंह जब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे तब उन्होंने एक अनुसूचित जाति के लड़के को गोद लिया था, ताकि उसका भविष्य संवार सकें. आज उसी बेटे की शादी है. जिसे आशीर्वाद देने वह उसके घर पहुंचे. 

राजनाथ सिंह ने जताई खुशी 
रक्षामंत्री ने कहा, “मैं जब उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री था, मैंने तभी बिजेंद्र की पढ़ाई का खर्चा उठाने की ठानी थी और आज मुझे उसे एक डॉक्टर के रूप में देखकर बहुत खुशी होती है. ये उम्मीद से कहीं ज्यादा है. मैं बहुत खुश हूं.” 

20 सालों में नहीं भूले पिता का फर्ज निभाना
साल 2000 में बिजेंद्र ने 8वीं कक्षा में टॉप किया था. तत्कालीन मुख्यमंत्री ने फोन करके बिजेंद्र की पारिवारिक स्थिति के बारे में पता किया. उन्हें जब यह पता लगा कि इस बच्चे के ऊपर पिता का साया नहीं है, तब उन्होंने बिजेंद्र को गोद ले लिया. इसके बाद ही उन्होंने मदारीपुर के बिजेंद्र कुमार को गोद लिया. इसके बाद राजनाथ सिंह कक्षा 9 से लेकर MBBS में सेलेक्शन होने तक हर समय पिता की भूमिका निभाते रहे. प्रदेश और देश के बड़े पदों पर रहने के बावजूद भी वह अपने दत्तक पुत्र से मिलते रहे. जब राजनाथ ने बिजेंद्र को गोद लिया था तो उनका इरादा उसके भविष्य को बेहतर बनाना था. उसका नतीजा यह है कि आज वह एक सफल डॉक्टर है.   

बिजेंद्र का परिवार भी है खुश
बता दें कि आजमगढ़ के वीरपुर खिलवा निवासी सुशीला देवी पति के देहांत के बाद अपने तीनों बेटों बिजेंद्र, विपिन और मंजेश को लेकर गाजीपुर के सैदपुर अपने मायके आ गईं थीं. शनिवार यानि आज जब 20 साल बाद उस दत्तक पुत्र की शादी में देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने पिता की भूमिका निभाई तो पूरे परिवार का चेहरा खिल गया.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.